Wednesday 6 March 2013

तो और बात है !!!

नींद को सपनों से तो सब लोग सजाते,
ख्वाब खुली आँखों में पले तो और बात है !

आवाज से आवाज तो कुँए भी मिलाते,
संग तेरे कदम भी चले तो और बात है !

कहीं नारे, कहीं धरने, कहीं कैंडल जलाते,
खून आँखों से जो उबले तो और बात है !

हसीनों की अदाओं पे हम मरते औ मिटाते,
दिल देश की खातिर मचले तो और बात है !

पाठ ईमान-धरम का वो सबको हैं पढ़ाते,
आगाज खुद से हो पहले तो और बात है !

ग़दर की राह क्यूँ बस औरों को ही दिखाते,
'आजाद' तेरे घर से निकले तो और बात है !

No comments:

Post a Comment

your comment is the secret of my energy