Friday, 8 March, 2013

नारी दिवस: कुछ मुक्तक



शबरी बन अनूठा दुलार भी करती है,
सीता बन सब स्वीकार भी करती है,
नारी को अबला मत समझना कभी
चंडी बन दुर्जन संहार भी करती है !
====================

समता की दुहाई, बराबरी का रोना,
'नारियाँ हैं आगे', 'लड़कियाँ हैं सोना',
अपना सम्मान नहीं चाहती तू खोना,
पर खुद के घर में लड़का ही होना?
====================

नारियों की इज़्ज़त जो करते तुम फ़ना,
हे अधम, इक बात ज़रूर याद रखना,
जिस ईश्वर की करते तुम हो पूजा,
उस राम-कृष्ण को नारी ने ही जना !
====================

नारी दिवस का बस एक दिन,
और वर्ष भर नारी का अपमान !
गर बनाना तुझे स्वर्ग धरा को,
करो हर पल उनका सम्मान !!
====================

कभी माता तो कभी बहन के रूप में,
कभी पत्नी, कभी बेटी के स्वरूप में,
देती ना संबल जो नारी हर पल,
जल जाता नर जीवन की धूप में !

2 comments:

  1. ।। यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवता ।।
    अर्थात-
    जहाँ स्त्रियों का पूजन ( समतुल्यता व सम्मान ) होता है वहाँ देवता रमन ( निवास ) करते है।

    ReplyDelete

your comment is the secret of my energy