Tuesday 16 April 2013

ना जाने क्यों

दिल उदास है ना जाने क्यों,
एक प्यास है ना जाने क्यों,
तू न आया, न आएगा कभी
तेरी आस है ना जाने क्यों !

रहता तू दिल में, पता है मुझे
तेरी तलाश है ना जाने क्यों !

आम बातें ही हैं जिंदगी में मेरी
बस तू खास है ना जाने क्यों !

समझदार था, पर आज न होश है
न मुझे हवास है ना जाने क्यों !

मर्ज़ी का मालिक था दिल तब
अब देवदास है ना जाने क्यों !

दुख तो सांझ है, आनी जानी है ये
बरसों से मेरे पास है ना जाने क्यों !

मौत तो है निश्चित, आएगी एक दिन
फिर भी कयास है ना जाने क्यों !

1 comment:

  1. Heart touching lines ..... Maut to aani hai ek din, for bhi kayas hai na jaane kyon .... Wish to read more such creations, don't stop ur creativity

    ReplyDelete

your comment is the secret of my energy